हे भगवान! बच्चों के लिए खतरनाक है मां का दूध! जहर है मां का मांसाहारी दूध! केजीएमयू की नई रिसर्च ने मचाया कोहराम

लखनऊ। मां का दूध बच्चे के लिए अमृत है। नवजात शिशु केवल अपनी मां के दूध पर निर्भर होता है। लेकिन किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी और क्वीन मैरी हॉस्पिटल की एक रिसर्च ने इस बारे में खुलासा कर सभी को हैरान कर दिया है. डिपार्टमेंट ऑफ बायोकेमिस्ट्री लैब में हुए शोध में पाया गया कि महिलाओं के ब्रेस्ट मिल्क में कीटनाशक और घातक रसायन होते हैं। आश्चर्यजनक रूप से शाकाहारी महिलाओं की तुलना में मांसाहारी महिलाओं के दूध में कीटनाशक की मात्रा 3.5 गुना अधिक पाई गई।केजीएमयू में बायोकैमिस्ट्री विभाग के प्रमुख अब्बास अली मेहदी ने बताया कि फसलों और खाद्य पदार्थों में अब खतरनाक रासायनिक पदार्थों और कीटनाशकों का धड़ल्ले से इस्तेमाल हो रहा है. शोध में पाया गया है कि मां के दूध में खतरनाक कीटनाशकों की मात्रा भी मौजूद होती है। ऐसा दूध नवजात शिशु के शरीर के लिए खतरनाक होता है। मेहदी ने यह भी कहा कि जन्म से ही बच्चों को इस तरह के घातक रसायनों के संपर्क में आने के कारण ही लोगों को कम उम्र में ही कई तरह की बीमारियां हो रही हैं।मेहदी ने बताया कि अगर महिलाएं इससे बचना चाहती हैं तो उन्हें ज्यादा से ज्यादा हरी सब्जियों और फलों का सेवन करना चाहिए। फलों और सब्जियों का सेवन करने से पहले उन्हें अच्छी तरह से साफ कर लेना चाहिए। कोशिश करें कि छिलका हटाकर ही खाएं और हर रोज अपनी डाइट में कुछ नया शामिल करते रहें। बचाने का यही एकमात्र तरीका है।देखने में आया है कि मांसाहारी लोगों को अच्छा चिकन परोसने के लिए जानवरों को कई तरह के इंजेक्शन दिए जा रहे हैं. उनका वजन बढ़ाया जा रहा है। यह एक बड़ी वजह है कि मांसाहारी महिलाओं के मां के दूध में अधिक कीटनाशक पाए गए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *