अभिमन्यु और अक्षरा के बीच दरार पैदा करने की कोशिश में अभिनव,ये रिश्ता क्या कहलाता है: असली पिता का ख्याल अभीर रखेगा,

1 min read
ये रिश्ता क्या कहलाता है 11 मार्च 2023 - इंडिया टीवी हिंदी
छवि स्रोत: ये रिश्ता क्या कहलाता है
ये रिश्ता क्या कहलाता है

महिमा कहती है नहीं, अभिमन्यु हमारा बच्चा है, उसे वापस आना होगा। अब हमें लड़ना है। मुस्कान अभीर को टेंट में नहीं देखती है। वह कहती हैं कि अक्षरा और दादी मंदिर में थीं, शायद वह बाथरूम में हैं। कुछ लोग अभीर के किडनैपिंग की बात करते दिख रहे हैं। मंजरी रोहन से पूछती है कि क्या वह अब ठीक है। रोहन का कहना है कि उसकी हालत खराब है, संभावना बहुत कम है। मंजरी चिल्लाती है नहीं ऐसा नहीं हो सकता मेरा अभिमन्यु मुझे किसी को बचाने के लिए नहीं छोड़ सकता।

अभीर का पत्र –

मुस्कान को अभीर का खत मिलता है। मुस्कान चिंता करती है और कैरव को बुलाती है। वह कहती है कि अभीर घर से भाग गया है, उसने यहां एक नोट रखा है, मुझे लगता है कि वह अभि से मिलने गया है। कायरव पूछता है कि क्या वे दोनों अस्पताल के रास्ते में अभीर से मिलते हैं।

24 घंटे हैं बेहद अहम-
मंजरी रोती है और कान्हा जी से चमत्कार की प्रार्थना करती है। वह कहती है कि मैं अपने अभि को नहीं खो सकती। अक्षु को अभीर का पत्र मिलता है और वह रो पड़ती है। अभिनव पूछता है कि क्या हुआ। वह पत्र दिखाती है और कहती है कि वह डॉक्टर के पास गया है, लेकिन कैसे। महिमा कहती हैं कि ऑपरेशन खत्म हो गया है, लेकिन पल्स अभी भी गिर रही है। आनंद का कहना है कि वह आईसीयू में स्थिर हो सकते हैं, लेकिन अगले 24 घंटे बहुत महत्वपूर्ण हैं। मुस्कान भी आती है और अभि को गले लगा लेती है। अभिनव ने मुसकान को फोन किया और पूछा कि क्या तुमने अभीर को ढूंढा, तुम्हें हमें बताना चाहिए था। मुस्कान सॉरी कहती है, मैं नहीं चाहती थी कि तुम चिंता करो, अभीर, कायरव और मैं मेरे साथ हैं, मैं उसे घर लाऊंगा। अक्षु कहता है कि जब वह आएगा तो मैं उसे थप्पड़ मारूंगा।

कायरव-अभीर की बहस –
अभिनव कहते हैं कि उन्हें मिलने दो, कान्हा जी द्वारा बनाए गए रिश्ते को कोई नहीं तोड़ सकता। मुस्कान और कायरव अभीर को अपने साथ आने के लिए कहते हैं। अभीर कहता है नहीं, मुझे डॉक्टर से मिलना है। अभीर कहता है प्लीज मामू, मुझे उसके पास ले चलो। वह अंदर जाता है और अभि को देखता है। दूसरी तरफ से अक्षु, कैरव और मुस्कान आती हैं। मनीष अक्षु से पूछता है कि क्या हुआ। वह कहती है अभीर। वह पूछता है कि उसके साथ क्या हुआ। अभीर अपने हाथ साफ करता है और अभि के माथे पर भभूति लगाता है। वह कहता है कि तुम ठीक हो, तुम जान बचाओ। वह भगवान शिव से प्रार्थना करता है। उसने अभि को गले लगा लिया। हर कोई देखता है। मंजरी पूछती है कि क्या अक्षु का बच्चा अभी के लिए यहां आया है।

अभीर की दुआ –
अभीर कहता है रूही बहुत रो रही है, मैं गुंडों से परेशान था, लेकिन शिव जी ने मेरी मदद करने के लिए कैरव और मुस्कान को भेजा है, शिव जी आपको भी बचाएंगे। महिमा कहती हैं कि अभि की नब्ज स्थिर हो रही है। मंजरी खुशी से रोती है और अपने बेटे को बचाने के लिए कान्हा जी को धन्यवाद देती है। मनीष कहते हैं मैंने तुमसे कहा था। अब ठीक हो जाएगा। अभिनव कहते हैं कि उन्होंने हमें डरा दिया। अभि पूछता है कि क्या वह ठीक हो गया। महिमा पूरी तरह से नहीं कहती, लेकिन यह बेहतर है, आपकी प्रार्थनाओं का उत्तर दिया गया है। अभीर कहते हैं कि शिव जी ने रूही और मेरी प्रार्थना सुनी। वह उससे अभि को आराम करने देने के लिए कहती है।

प्रीकैप: आरोही कहती है कि उदयपुर छोड़ दो, मेरा भविष्य अभी है और तुम्हारा अभिनव है। अक्षु उसे रोकता है। अभि कहता है मुझे मेरी आंखें दे दो। अभिनव कहते हैं कि भाग्य ने उन्हें मुझे दिया। अभि कहता है कि तुम हमारे बीच आ गए हो।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed