संदेश | बिजली चोरी के खिलाफ अभियान जारी रहेगा और इसके अच्छे परिणाम मिलेंगे।

1 min read

फाइल फोटो

फाइल फोटो

राजेश मिश्रा

लखनऊ : उत्तर प्रदेश में बिजली चोरी रोकने के लिए चल रहे अभियान का असर ट्रांसफार्मरों के लोड के साथ-साथ राजस्व पर भी पड़ा है। अभियान की सफलता को देखते हुए अब इसे पूरे साल चलाने पर विचार किया जा रहा है। हाल ही में ड्रोन से बिजली चोरी पकड़ने की कवायद के भी सकारात्मक परिणाम आए हैं।

अभियान के अच्छे परिणाम आये

उत्तर प्रदेश में मध्यांचल विद्युत वितरण निगम की पुलिस अधीक्षक सतर्कता अंकिता सिंह ने बताया कि गर्मी में बिजली की बढ़ी मांग के अनुरूप आपूर्ति की व्यवस्था करने के बाद भी उपभोक्ताओं को दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है., इसकी वजह बड़े पैमाने पर बिजली चोरी थी, जिसे रोकने के लिए विशेष अभियान चलाया गया था., उन्होंने कहा कि अभियान के अच्छे परिणाम आये हैं और न केवल चोरी रुकी है, बल्कि राजस्व भी बढ़ा है., अभियान के दौरान आम दिनों की चेकिंग की तुलना में बड़ी संख्या में बिजली चोरी के मामले पकड़े गए हैं।, कई जगहों पर बिजली राजस्व में काफी बढ़ोतरी हुई है,

ड्रोन से बिजली चोरी पकड़ने की कवायद बेहद सफल रही

अंकिता सिंह ने कहा कि ड्रोन के जरिए बिजली चोरी पकड़ने की कवायद काफी सफल रही है और अब प्रदेश के अन्य शहरों से भी इसकी मांग आ रही है., वर्तमान में दक्षिणांचल विद्युत वितरण निगम में विजिलेंस का काम भी देख रहे सिंह ने बताया कि राजधानी में ड्रोन के इस्तेमाल के बाद अब आगरा में भी इसकी जरूरत महसूस की जा रही है., ड्रोन से न केवल परिणाम मिल रहे हैं बल्कि समय की भी बचत हो रही है, उन्होंने कहा कि भूमिगत केबल बिछाने, स्मार्ट प्रीपेड मीटर लगाने और नई तरह की बख्तरबंद केबल से आपूर्ति करने से बिजली चोरी की घटनाएं काफी हद तक कम हो गई हैं।, हालाँकि, यह सभी जगहों पर संभव नहीं है और इसमें समय लगेगा।, पुलिस अधीक्षक का कहना है कि ग्रामीण और शहरी दोनों क्षेत्रों में बिजली चोरी के मामले पकड़े जा रहे हैं.,

इसे भी पढ़ें

सभी जिलों में विशेष पुलिस स्टेशनों की स्थापना

पुलिस अधीक्षक ने कहा कि उन क्षेत्रों में अभियान चलाने पर जोर दिया जा रहा है, जहां स्वीकृत भार से काफी कम राजस्व मिल रहा है और यहां तक ​​कि 60 फीसदी तक भी कम राजस्व मिल रहा है., सामान्यतः लाइन लॉस 5 प्रतिशत होना चाहिए, लेकिन अधिक संख्या होने पर आकाशीय बिजली गिरने की संभावना अवश्य रहती है।, गौरतलब है कि राज्य सरकार ने बिजली चोरी रोकने के लिए सभी जिलों में विशेष थाने बनाये हैं., अंकिता सिंह ने कहा कि सभी 75 जिलों में बिजली चोरी के थाने काम कर रहे हैं और इससे काफी मदद मिली है.,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed