समाचार यूपी | योगी सरकार 17 से 31 जुलाई तक सड़क सुरक्षा पखवाड़ा चलाएगी, लोगों को सड़क नियमों के प्रति जागरूक किया जाएगा.

1 min read

 

ऊपर यातायात पुलिस

लखनऊ: योगी सरकार 17 से 31 जुलाई तक सड़क सुरक्षा पखवाड़ा चलाएगी. इसका मकसद सड़क दुर्घटनाओं को कम करना और आम लोगों को यातायात नियमों के प्रति जागरूक करना है. वहीं, सड़क हादसों को कम करने के लिए सरकार ने अब सख्त रवैया अपना लिया है. विभागों में दूसरी बार बिना हेलमेट कार्यालय आने वाले कर्मचारियों का प्रवेश वर्जित मानते हुए अनुपस्थित माना जाएगा।

वहीं पखवाड़े के तहत जिला सड़क सुरक्षा समिति की बैठक भी आयोजित की जायेगी. इसमें पखवाड़े के अंत तक जिला सड़क सुरक्षा कार्ययोजना तैयार कर परिवहन आयुक्त को भेजी जाएगी। पखवाड़े के तहत 15 दिवसीय कार्ययोजना भी तैयार की गई है।

सड़क सुरक्षा से संबंधित विभागों की कार्ययोजना के आधार पर आयोजन किया गया

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर सड़क सुरक्षा पखवाड़ा इससे संबंधित विभागों परिवहन, गृह, लोक निर्माण विभाग, चिकित्सा एवं शिक्षा विभाग की कार्ययोजना के आधार पर आयोजित किया जाएगा। पिछले वर्ष की तुलना में सड़क दुर्घटनाओं में 5.5 प्रतिशत और दुर्घटना में होने वाली मौतों की संख्या में 4.2 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। सड़क हादसों में दोपहिया वाहन चालकों की ज्यादा मौत हुई है. यह स्थिति बेहद चिंताजनक है. सरकार का विशेष ध्यान है कि सड़क दुर्घटनाओं में कमी आये और लोग जागरूक हों. इसी क्रम में यह अभियान शुरू किया जा रहा है.

15 दिन की कार्ययोजना तैयार

सड़क सुरक्षा पखवाड़ा मनाने के लिए 15 दिवसीय कार्ययोजना तैयार की गई है। प्रस्तावित कार्यक्रम के अनुसार उद्घाटन समारोह में सांसद, विधायक आदि जन प्रतिनिधियों को आमंत्रित किया जायेगा. वहीं, संबंधित विभाग के अधिकारी भी शामिल होंगे. बसों, ट्रकों, ऑटो यूनियनों, परिवहन से जुड़े एनजीओ के पदाधिकारियों को बुलाकर उनसे भी राय ली जाएगी। वहीं प्रार्थना के बाद विद्यार्थियों को सड़क सुरक्षा की जानकारी देते हुए नियमों का पालन करने की शपथ दिलाई जाएगी।

ये भी पढ़ें

दूसरी बार बिना हेलमेट कार्यालय आने वालों को अनुपस्थित माना जाएगा

यातायात नियमों की अवहेलना करने वाले कर्मचारियों पर योगी सरकार बेहद सख्त है. निर्देश दिया गया है कि सभी विभागों के कार्यालय परिसर में बिना हेलमेट पहने आने वाले कर्मियों को सार्वजनिक तौर पर चेतावनी दी जायेगी. कार्यालय परिसर में चेतावनी साइन बोर्ड लगाए जाएंगे। भविष्य में बिना हेलमेट के दोपहिया वाहनों पर कर्मियों का प्रवेश वर्जित होगा और उन्हें अनुपस्थित माना जायेगा. पब्लिक एड्रेस सिस्टम के माध्यम से सड़क सुरक्षा का प्रचार-प्रसार सुनिश्चित किया जायेगा।

प्रशिक्षण सेव लाइफ फाउंडेशन द्वारा दिया जाएगा

सड़क सुरक्षा पखवाड़ा के तहत कई कार्यक्रम आयोजित किये जायेंगे. इस दौरान सेव लाइफ फाउंडेशन की मदद से सभी 75 जिलों में ड्राइवरों को सुरक्षित ड्राइविंग और फर्स्ट रिस्पॉन्डर का प्रशिक्षण दिया जाएगा। चिकित्सा शिक्षा विभाग की ओर से मेडिकल कॉलेज के सर्जरी और ऑर्थोपेडिक्स विभाग द्वारा मेडिकल और पैरामेडिकल छात्रों के लिए बेसिक और एडवांस लाइफ सपोर्ट से संबंधित कार्यशाला का आयोजन किया जाएगा। उत्कृष्ट कार्य करने वाले यातायात पुलिस कर्मियों को सम्मानित किया जाएगा। परिवहन विभाग की मदद से स्कूली वाहनों के चालकों की आंखों और स्वास्थ्य का भी परीक्षण किया जाएगा। प्रोजेक्ट मैनेजमेंट कंसल्टेंसी के माध्यम से बेसिक, माध्यमिक और उच्च शिक्षकों को ऑनलाइन प्रशिक्षण दिया जाएगा। स्कूलों में रंगोली और पोस्टर प्रतियोगिता के माध्यम से जागरूकता पैदा की जाएगी। इसके अलावा भी कई कार्यक्रम होंगे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed