यूपी समाचार | यूपी के बाजार में दशहरी आम आलू से सस्ता हो गया और निर्यात घट गया।

1 min read

 

दशहरी आम

-राजेश मिश्रा

लखनऊ: बाजार में कमजोर खरीदारी और विदेशी दानदाताओं की बेरुखी के कारण इस साल मशहूर दशहरी आम के दाम औंधे मुंह गिरे हैं. पिछले कई सालों की तुलना में इस साल दशहरी की कीमतों में अप्रत्याशित कमी देखने को मिल रही है. हालत यह है कि उत्तर प्रदेश के फल पट्टी क्षेत्र काकोरी-मलिहाबाद की थोक मंडियों में दशहरी की कीमत आलू से भी कम चल रही है.

लागत न निकलते देख मलिहाबाद में कई व्यापारियों ने अपने आम सड़क किनारे फेंक दिए हैं. पिछले सप्ताह थोक बाजार में औसत आकार की दशहरी की कीमत मात्र दस रुपये थी, जो पिछले कई वर्षों की तुलना में सबसे कम है. विदेशों में दशहरी की अच्छी खपत वाले देश ओमान और थाईलैंड में लगभग कोई माल नहीं बिका है, जबकि कई अन्य देशों में निर्यात के नाम पर सिर्फ खानापूर्ति ही हुई है.

चौसा और सफेदा आम से ज्यादा उम्मीद नहीं है.

व्यापारियों का कहना है कि दशहरी को दिल्ली और मुंबई भेजा गया है लेकिन इससे कीमतों पर ज्यादा असर नहीं पड़ा है. बड़े आकार की दशहरी भी मुंबई और दिल्ली में 30-35 रुपये प्रति किलो के भाव पर गई है, जबकि स्थानीय बाजार में इसकी कीमत महज 20 से 25 रुपये ही रह गई है. दशहरी सीजन खत्म होने और कीमतों में गिरावट को देखते हुए व्यापारियों को चौसा और सफेदा आम से ज्यादा उम्मीदें नहीं हैं.

सीधी उड़ान सेवा न होने से निर्यात पर भी असर पड़ा

आम के कारोबारी और मलिहाबाद में नफीस नर्सरी के मालिक शबीहुल हसन कहते हैं कि दो साल तक कोविड महामारी के कारण निर्यात लगभग बंद रहा और फिर पिछले साल फसल में कीड़े लगने के कारण विदेशी खरीदारों ने उदासीनता दिखाई. लगातार तीन साल के अंतराल के बाद इस साल भी कीड़ों के डर से ज्यादा ऑर्डर नहीं मिले. उनका कहना है कि सीधी उड़ान सेवा की कमी का असर निर्यात पर भी पड़ा है. मालदीव के ऑर्डर का उदाहरण देते हुए हसन कहते हैं कि आम की खेप मलिहाबाद से वातानुकूलित जहाज से दुबई भेजने के बाद वहां 45-50 डिग्री तापमान में खुले में रहती है, फिर चार घंटे बाद दूसरे जहाज से मालदीव भेजा जाए. . ऐसे में तापमान में उतार-चढ़ाव झेलने के बाद नाजुक दशहरी में काले धब्बे की शिकायत हो जाती है। शबीहुल हसन कहते हैं कि सीधी हवाई सेवा न होने के कारण कई ऑर्डर रद्द करने पड़े। इस बार अकेले उत्तर प्रदेश से 100-150 टन से अधिक दशहरी के निर्यात का अनुमान लगाया गया था, लेकिन वास्तविक आंकड़े बहुत कम होंगे.

ये भी पढ़ें

इस बार उम्मीद से ज्यादा पैदावार भी कीमत का एक कारण है

मलिहाबाद के आढ़ती इस बार उम्मीद से अधिक उत्पादन को भी कीमतों में गिरावट का बड़ा कारण बता रहे हैं। शबीहुल हसन का कहना है कि पहले मौसम का हाल देखकर कम पैदावार की उम्मीद थी, जो बाद में गर्मी के कारण बढ़ गई और इस बार आम का आकार भी बढ़ गया है। बाजार में दशहरी की कीमत बाजार के अनुमान से कहीं ज्यादा गिरी और खरीदारों ने उस हिसाब से दिलचस्पी नहीं दिखाई। उत्तर प्रदेश के मलिहाबाद-काकोरी फल पट्टी क्षेत्र में लगभग 30,000 हेक्टेयर आम के बागान हैं। सामान्य सीजन में राज्य में 45 लाख टन आम का उत्पादन होता है, जो इस साल 50 लाख टन होने की उम्मीद है. दशहरी की पैदावार ही पिछले साल की तुलना में करीब 15 फीसदी बढ़ी है, जो खराब मौसम के कारण घटने की आशंका थी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed